नौकरनी को चोदते हुए बेटी ने पकड़ा और फिर Baap beti ki chudai ka khel

ChotiGolpo Bangla kahini

Baap beti ki chudai ka khel:- हेलो दोस्तों मेरा नाम कमल किशोर है. मेरी उम्र 53 साल है और मैं एक राशन की दुकान चलाता हूँ. मेरी हाइट 5 फुट 11 इंच है और रंग सांवला है. मेरी बीवी की मौत 8 साल पहले हो गयी थी और अब घर में मैं और मेरी 23 साल की बेटी ही है. मैं अपनी बेटी से बहुत प्यार करता हूँ और उसको सारी खुशियां देने की कोशिश करता हूँ. ये जो कहानी है वो 6 महीने पहले की है. इस कहानी मे आपको बताऊंगा कि कैसे मेरी बेटी ने मुझे मेरी नौकरनी को चोदते हुए पकड़ा और फिर अपनी चूत मे मेरा मोटा लोड़ा लिया। तो चलिए कहानी शुरू करते है.

Baap beti ki chudai ka khel hindi sex story

काफी दिनों से मेरी दुकान पर एक औरत पोछा लगाने आती थी. उसका नाम रमा था. रमा 38 साल की एक गदरायी हुई औरत थी जिसका पति मर चुका था. वैसे तो मैंने कभी उसके बारे में कुछ गलत नहीं सोचा था लेकिन एक दिन मैंने सीन ही ऐसा देख लिया कि मेरे मन में उसके लिए गलत ख़याल आने लगे. तो हुआ यूं कि वो दूकान पर पोछा लगा रही थी और तभी हमारी शॉपकीपर्स की मीटिंग होने वाली थी. मैंने रमा को बोला कि मैं मीटिंग में जा रहा हूँ तो वो 10 मिनट दुकान का ध्यान रख ले. उसने भी हामी भर दी. फिर मैं मीटिंग में चला गया. 10 मिनट बाद जब मैं आया तो रमा दुकान पर नहीं थी. मुझे लगा कि वो चली गयी, लेकिन वो बाथरूम में थी और इस बात का मुझे नहीं पता था. दरअसल मेरे पीछे से हुआ ये था की एक कस्टमर तेल लेने आया था. वो तेल तोलते-तोलते उस पर थोड़ा तेल गिर गया था. उसने साड़ी पहनी थी और तेल ब्लाउज पर गिर गया था. तो वो ब्लाउज साफ़ करने बाथरूम में गयी थी. अब वो बाथरूम में थी और उसने ब्लाउज और ब्रा उतारे हुए थे. उसने कुण्डी भी नहीं लगायी थी. मुझे बहुत तेज़ सुसु आयी थी तो मैं जल्दी से बाथरूम में चला गया.

अंदर जाते ही उसने चीख मारी. मैंने वहाँ जो नज़ारा देखा तो कमाल का था. रमा की नाभि के नीचे तक बस साड़ी थी. उसके ऊपर से वो बिलकुल नंगी थी. क्या कमाल की सेक्सी कमर थी उसकी. उसके बड़े-बड़े बूब्स तो दूध से भरे हुए थे. वो ज़्यादा गोरी नहीं थी लेकिन कामुक बहुत थी. उसको देखते ही मेरा लंड खड़ा हो गया. मेरा दिल बोल रहा था कि उसको वही लिटा कर चोद दू लेकिन मैंने खुद पर कण्ट्रोल किया. फिर मैं सॉरी बोल कर जल्दी से बाहर आ गया. जब वो बाहर आयी तो बोली: Baap beti ki chudai ka khel

रमा – सॉरी साब मैं कुण्डी लगाना भूल गयी थी.

मैं: कोई बात नहीं रमा, हो जाता है.

Baap beti ki chudai sex story hindi

मेरा लंड खड़ा हुआ था और शायद उसने भी ये देख लिया था. उस दिन से मेरा दिल रमा को चोदने का करने लग गया. अब जब भी वो पोछा लगा रही होती तो मेरी नज़र उसी पर टिकी रहती. उसकी मोटी गांड और बड़े बूब्स देख-देख कर मैं पागल हो रहा था. वो भी अब जान-बूझ कर मुझे अपने बूब्स के दर्शन करवाती थी. फिर एक दिन मुझसे रहा नहीं गया और मैंने उसको चोदने का फैंसला किया. रमा पोछा लगा चुकी थी और वाशबेसिन के सामने खड़े होके हाथ धो रही थी और शीशे में खुद को देख रही थी. मैंने अचानक से उसको पीछे से पकड़ लिया और सीधा उसके बूब्स पर हाथ डाल दिए. फिर मैं उसके शोल्डर्स पर किश करने लगा और उसको बोला-

मैं: रमा तुम बहुत सेक्सी लग रही हो! मैं चाह कर भी अपने आप को कण्ट्रोल नहीं कर पा रहा! मुझे तुमसे प्यार हो गया है.

वो बोली: साब बड़ी देर लगा दी आपने ये बोलने में, मेरे पति के बाद आप ही है जिन्होंने मुझे नंगा देखा है, मैं तो उसी दिन आपकी हो गयी थी, बस आपके कहने का इंतज़ार कर रही थी.

मैं: तो मेरी प्यास बुझा दो आज.

ये बोल कर मैंने अपने होंठ उसके होंठो के साथ लगा दिए. तभी उसने मुझे रोक दिया. फिर वो बोली-

रमा: साब यहाँ नहीं. अभी ना तो जगह सही और ना ही मेरी हालत. मैं आपके सामने अच्छी सी बनके आके चुदना चाहती हूँ.

मैं: चलो फिर एक घंटे में मेरे घर पर मिलते है.

रमा: ठीक है साब.

फिर वो चली गयी और मैं भी थोड़ी देर में दुकान बंद करके घर पहुँच गया. 2 बज चुके थे और घर की डोर बेल बजी. मैंने भाग के दरवाज़ा खोला और मेरे सामने हुस्न की परी खड़ी थी. ब्लैक साड़ी में रमा किसी भोजपुरी हीरोइन से कम नहीं लग रही थी. उसके मोटे बूब्स और बड़ी गांड का जलवा देखते ही बन रहा था. फिर मैंने उसको अंदर बुलाया और दरवाज़ा बंद कर दिया. दरवाज़ा बंद करते ही मैंने उसकी साड़ी का पल्लू पकड़ा और उसको खींच दिया. वो घूम गयी और उसकी साड़ी उसके बदन से अलग हो गयी. अब वो कामुक स्त्री मेरे सामने सिर्फ ब्लाउज और पेटीकोट में थी. मैंने उसको बाहों में लिया और हम दोनों पागलों की तरह किस करने लगे. 5 मिनट तक हमने किस किया और फिर मैं उसकी क्लीवेज में मुँह डाल के प्यार करने लगा. फिर मैंने उसका ब्लाउज खोला और ब्रा भी निकाल दी. जिन बूब्स को देख कर मेरी जवानी जागी थी आज वो बूब्स मेरे सामने थे. मैं देखते ही उसके बूब्स पर टूट पड़ा और निप्पल खींच-खींच कर चूसने लगा. वो आहें भर रही थी और मेरे सर को अपने बूब्स में दबा रही थी.

फिर मैंने उसको बेड पर लिटाया और उसकी कमर पर आके उसकी नाभि चूसने लग गया. फिर मैंने उसके पेटीकोट का नाडा खोला और उसको उतार दिया. उसने पैंटी नहीं पहनी थी और अब उसकी हलके बालों वाली चूत मेरे सामने थी जो थोड़ी गीली थी.उसकी चूत देखते ही मैंने उस पर जीभ चलना शुरू कर दिया. मैं ज़ोर-ज़ोर से उसकी चूत को चाटने और चूसने लग गया. वो पागल हो रही थी और मेरे सर को अपनी जाँघों में दबा रही थी. मैंने बहुत टाइम बाद आज चूत का स्वाद लिया था. फिर उसने मुझे धक्का दिया और मेरे ऊपर आके मुझे नंगा कर दिया. मेरा 7 इंच का खड़ा लंड देख कर वो बोली- Baap beti ki chudai ka khel

रमा: ये तो मेरे पति से भी बड़ा है. वो भी क्या मज़ा देते थे मुझे.

फिर उसने लंड मुँह में डाला और चूसने लग गयी. वो माहिर थी लंड चूसने में. मुझे बहुत मज़ा आ रहा था. फिर मैं उसके बाल पकड़ कर उसके मुँह में धक्के देने लग गया. कुछ देर लंड चूस कर वो मेरे ऊपर आ गयी. उसने लंड पकड़ कर सीधा खड़ा किया और चूत पर सेट करके उसके ऊपर बैठ गयी. बैठते हुए उसने ज़ोर की आह भरी. फिर उसने अपने हाथ मेरी चेस्ट पर रखे और गांड ऊपर नीचे करनी शुरू की. बहुत मज़ा आ रहा था. ऊपर से मुझे उसके बूब्स का मज़ा मिल रहा था और नीचे से उसकी गरम चूत का. 20 मिनट वो ऐसे ही मेरे लंड पर ऊपर नीचे होने लगी. फिर वो आहह अहह करते हुए झड़ गयी. मेरा अभी निकलना बाकी था. मैंने उसको नीचे लिया और तेज़-तेज़ चोदने लगा. 10 मिनट और मैंने उसको चोदा और फिर पानी उसकी चूत में ही निकाल दिया. फिर मैं उसके ऊपर ही लेट गया. ये सब करते हुए 3 बज गए थे. मैं भूल ही गया था कि 3 बजे मेरी बेटी कॉलेज से वापस आती है.

तभी डोर बेल बजी और जब मैंने घडी की तरफ देखा तो मैं समझ गया कि मेरी बेटी पायल वापस आ गयी होगी. पायल के आने पर मैं हड़बड़ा गया और रमा को जल्दी से कपडे पहनने को कहा. मैंने उसको अंदर से आवाज़ दे दी “मैं आया बेटा 2 मिनट रुको बस”. और मैं जल्दी-जल्दी कपडे पहनने लगा. फिर कपडे बदल कर मैं दरवाज़ा खोलने चला गया. पायल अंदर आ गयी और मुझे बोली-

पायल: क्या हुआ पापा इतनी देर क्यों लगा दी?

मैं: कुछ नहीं बेटा वो रमा को बुलाया था. सफाई करवा रहा था.

Baap beti sex story hindi

तभी रमा बाहर आयी उसके बाल थोड़े खराब हुए पड़े थे. उसको देख कर ही लग रहा था जैसे किसी ने उसको अच्छे से पेला हो. फिर वो पायल को “नमस्ते बेटा” बोल कर बाहर निकल गयी. फिर जब मैं और पायल अंदर गए तो वहाँ रमा को ब्रा गिरी पड़ी थी. पायल की नज़र सीधे रमा की ब्रा पर गयी. मैंने भी ब्रा देख ली थी लेकिन मैंने अनजान बनने का नाटक किया. तभी पायल बोली-

पायल: पापा ये क्या है?

मैं: क्या है अरे ये तो…

पायल: ये ब्रा मेरी तो नहीं है.

मैं: अब बेटा मुझे क्या पता मैं तो पहनता नहीं.

और हम दोनों हंसने लग गए. यहाँ बात कैसे भी करके रफा दफा हो गयी. लेकिन पायल को शक हो गया था जिसका मुझे अंदाज़ा नहीं था. फिर अगले दिन मैंने फिर से रमा को घर बुला लिया और उसको मज़े से चोदने लगा. इस बार हमने टाइम का ध्यान रखा लेकिन उसका कोई फ़ायदा नहीं हुआ. हुआ कुछ ऐसा कि घर की एक चाबी पायल के पास भी रहती है. क्यूंकि पायल को मुझ पर शक था तो वो कॉलेज से जल्दी निकल आयी. उस दिन उसने दरवाज़ा नॉक नहीं किया और चाबी से सीधा दरवाज़ा खोल कर अंदर आ गयी. जैसे ही वो अंदर आयी तो अंदर का नज़ारा देख कर वो हैरान हो गयी. Baap beti ki chudai ka khel

तभी वो चिल्लाई: पापा!

मैं डर गया अचानक से उसकी आवाज़ सुन कर. उस वक़्त मैं बेड पर बैठा था और रमा नीचे बैठ कर मेरा लंड चूस रही थी. पायल की आवाज़ आते ही रमा भी मेरे लंड से दूर हट गयी. तभी पायल ने रमा को बहुत भला बुरा बोला और वापस जाने के लिए कहा. मैं वहीं बैठा था और मैंने अपने आप को कपडे से ढका हुआ था. रमा के जाने के बाद पायल बोली-

बाप बेटी की चुदाई का खेल

पायल: पापा ये क्या था?

मैं कुछ बोल नहीं सका.

उसने दोबारा पुछा: पापा मैं आपसे कुछ पूछ रही हूँ.

मैं: बेटा तेरी मम्मी के जाने के बाद मैं बहुत अकेला हो गया हूँ. बस मैंने अपना कण्ट्रोल खो दिया. मुझे माफ़ कर दो.

पायल: इसमें माफ़ी वाली कोई बात नहीं है पापा. इट्स ए बॉडी नीड. मैं तो ये सोच कर हैरान होती हूँ कि इतने साल आपने अपने आप पर कण्ट्रोल कैसे रखा. वो भी मेरी जैसी बेटी होते हुए.

मैं उसकी बात सुन कर बोला: बेटी मैं कुछ समझा नहीं.

पायल: मैं समझाती हूँ.

ये बोल कर पायल अपने कपडे उतारने लगी. पायल ने ब्लैक लेग्गिंग्स के साथ लाइट ब्राउन शर्ट पहना था. उसने झट से शर्ट को अपने बदन से अलग कर दिया. अब वो मेरे सामने ब्रा और लेग्गिंग्स में थी. उसके गोर-गोर बूब्स की क्लीवेज दिख रही थी. और उसकी चिकनी कमर के बारे में तो पूछो ही मत. फिर पायल अपने घुटनो के बल बैठ गयी और मेरा लंड अपने मुँह में ले लिया. मैं अब भी समझ नहीं पा रहा था कि क्या हो रहा था. मैंने पायल को कभी गन्दी नज़र से नहीं देखा था और आज वो मेरे सामने ये सब कर रही थी. वैसे पायल एक बहुत ही सेक्सी लड़की है. उसका फिगर 34-28-36 है. रंग गोरा है और हाइट 5 फुट 5 इंच है. बड़ी ज़बरदस्त लड़की है एक-दम कड़क. ये मैंने उसी दिन नोटिस किया जिस दिन मेरी बेटी मेरा लंड चूस रही थी. फिर पायल लंड चूसते हुए बोली:

पायल – पापा आपको ऐसी घटिया औरतों के पास जाने की ज़रुरत नहीं है. जब आपकी अपनी बेटी आपके पास है. मुझे आपसे बहुत प्यार है पापा. मैं आपके लिए कुछ भी कर सकती हूँ. जितना प्यार आपने मम्मी को दिया है और जितने आप लॉयल रहे हो उतना आज के लड़के नहीं हो सकते. तो आप मुझे ही अपनी पत्नी बना लो. बाहर किसी लड़के की रंडी बनने से अच्छा आप से चुद जाऊ. Baap beti ki chudai ka khel

papa ne beti ko choda hindi sex kahani

और ये बोल कर वो मेरा लंड चूसती रही. मुझे उसकी बात ठीक लगी. किसी ना किसी से तो वो चुदने वाली थी. तो मैं क्यों न उसको चोद देता. फिर मैंने भी यही किया. मैंने उसका सर पकड़ा और उसका मुँह चोदने लगा. आज पहली बार मैंने अपनी बेटी को हवस भरी नज़रों से देखा था और वो मुझे बहुत सेक्सी लग रही थी. फिर मैंने अपनी बेटी को अपनी गोद में बिठाया और उसकी ब्रा खोल दी. अब उसके सॉफ्ट बूब्स मेरे सामने थे. मैं उसके बूब्स दबाने लगा और उसके लिप्स पर किश करने लगा. वो भी मेरा साथ दे रही थी. क्या स्वाद था उसके लिप्स का. फिर मैंने उसके बूब्स चूसने शुरू किये. वो कामुक आहें भरने लग गयी. बूब्स चूसते हुए मैं उसकी जाँघों में हाथ डाल कर उसकी चूत मसलने लग गया. वो भी मेरा लंड मसल रही थी. फिर उसने मुझे बेड पर लिटा दिया और अपनी लेग्गिंग्स और पैंटी उतार कर मेरे ऊपर आ गयी. बड़ी ही खूबसूरत चूत की मालकिन थी पायल. Baap beti ki chudai ka khel

वो अपनी चूत मेरे लंड पर रगड़ने लगी और आह अहह करके लगी. उसकी आँखों में मदहोशी साफ़ नज़र आ रही थी. फिर उसने लंड अपनी चूत पर टिकाया और अपने अंदर ले लिया. उसकी चूत बहुत टाइट थी लेकिन वो पहले भी चुद चुकी थी. शायद उसको प्यार में धोखा मिल चुका था. फिर वो मेरे लंड पर ऊपर-नीचे होके चुदने लगी. मैं भी उसके चूतड़ पकड़ कर नीचे से धक्के देने लगा. बहुत मज़ा आ रहा था. 20 मिनट तक वो ऐसे ही उछलती रही. फिर मेरा निकलने वाला था और मैंने ये बात उसको बोली. वो गांड और तेज़ी से ऊपर-नीचे करने लगी और मेरा माल अपने अंदर ही ले लिया. वो मेरे बच्चे की माँ बनना चाहती थी. फिर कुछ समय बाद वो प्रेग्नेंट हो गयी. मैंने उसके साथ शहर छोड़ दिया और हम दोनों किसी दुसरे शहर में मिया-बीवी की ज़िन्दगी जीने लगे.

तो दोस्तों कैसी लगी आपको मेरी ये कहानी? पसंद आई हो तो कमेंट ज़रूर करना।

Read More Sex Stories –

Leave a Comment