ChotiGolpo माँ के साथ रिश्ता हवस और चुदाई का Maa ki chudai bete ne ki sex story

ChotiGolpo Kahini Wiki

Maa ki chudai bete ne ki:- हेलो दोस्तों मेरा नाम सुधीर है और प्यार से सब मुझे सुधी बुलाते है. मैं ओडिशा से हूं और मैं जॉब करता हूं. मेरी उम्र 22 साल है. हाइट 5 फुट 9 इंच है और डिक साइज 7 इंच है और मोटाई का पता नहीं. लेकिन मुट्ठी में पकड़ना चाहो तो सिर्फ बीच वाली ऊँगली ही टच होती है. तो आप अंदाज़ा लगा सकते हो मोटाई का. मैं इन्सेस्ट लवर हूं. इस स्टोरी की हीरोइन मेरी माँ है. तो चलिए शुरू करते है.

Maa ki chudai bete ne ki

मेरी माँ का नाम रागिनी है. वो बहूंत खूबसूरत है. आगे उनकी 45 है लेकिन लगती 35 की है. हाइट 5 फुट 4 इंच, बूब्स 36 बी, कमर 28, बैक 38 से बड़ी लेकिन 40 से कम. गोरी है और वो हाउसवाइफ है. पापा की किराने की दुकान है. घर में बस मैं पापा और मम्मी रहते है. दादी 6 महीने पहले ही गुज़र गयी. मेरे घर में कोई और लड़की न होने की वजह से जब भी मैं पोर्न या फिर स्टोरी पढता तो अपनी माँ को इमेजिन करके मुठ मारता. मैं बारहवीं क्लास से मुठ मारता हूं. मैं कई दिन से प्लान कर रहा था की कैसे माँ को चोदूँ. लेकिन पापा और दादी की वजह से कुछ कर नहीं पा रहा था. माँ को बोलने में भी डर लगता था तो मैंने वियाग्रा लेके रखी थी. की अगर कभी मौका मिले तो चोद लू (स्टोरी थोड़ी लम्बी है तो इत्मीनान से पढ़ना और मज़ा लेना).

तो हूंआ यूं कि एक दिन (दादी के गुजरने के बाद) मैं किसी काम से पापा की जेब से पैसे निकाल रहा था. तभी उनकी जेब से एक कंडोम गिर गया. मम्मी वहाँ खड़ी थी तो उस वक़्त उन्होंने कुछ नहीं कहा और मुझे भी अजीब लगा तो मैं चला आया. बाद में मम्मी पापा का झगड़ा हो गया इसलिए की क्यों पापा कंडोम रखे थे. क्यूंकि वो माँ को बिना कंडोम के चोदते थे. तो फाइनली पता चला की पापा का अफेयर चल रहा था. इसलिए माँ अलग हो कर सोने चली गयी गेस्टरूम में. मैं मेरे रूम में सो रहा था और पापा उनके रूम में. रात में मोहल्ले में चोर के घुसने से थोड़ी देर तक हल्ला मचा तो मम्मी को डर लगने लगा. झगडे की वजह से वो पापा के पास न जाते हुए मेरे रूम में आके सोने लगी. तब मैं सो रहा था गहरी नींद में. रात के करीब 2 बजे मुझे सुसु लगा तो मैं उठा और बाथरूम गया. आ कर मैं सोने ही जा रहा था की देखा माँ मेरे बेड पे सो रही थी (सोते टाइम भी माँ साड़ी ही पहनती है हमारे यहाँ कॉमन है).

तो मैं सरप्राइज हो गया और खुश भी हो गया. जिसको चोदने की तलब मची थी आज वो मेरे साथ बेड शेयर कर रही थी. तो मैं उनके बाजु में सोने की एक्टिंग करने लगा. उनको देख के ही मेरी नींद उड़ गयी थी. कुछ देर बाद मैंने उनके हाथ के ऊपर हाथ डाल दिया और रिएक्शन देखने लगा. कोई रिएक्शन नहीं था क्यूंकि वो नींद में थी. फिर थोड़ी देर बाद मैंने हिम्मत जुटाते हुए उनके छाती पर हाथ रखा. मेरा दिल ज़ोरो से धड़कने लगा था. फिर भी उन्होंने कुछ रियेक्ट नहीं किया तो मैं साड़ी और ब्लाउज के ऊपर से ही उनके बूब्स को धीरे धीरे मसलने लगा. लगभग 10 मिनट मसलने के बाद मेरा प्रीकम निकल गया और मैं अपने आप को रोक नहीं पाया और हिला के सो गया.

फिर अगले दिन सुबह को मैं जब उठा तो देखा कुछ छींटे मेरे स्पर्म के मेरी पैंट के ऊपर भी थे और शायद माँ ने भी देखा होगा. अगले दिन भी मम्मी पापा के साथ बात नहीं कर रही थी. दिन जैसे-तैसे बीत गया. रात हुई तो खाना खाने के बाद माँ ने कुछ टेबलेट ली और फिर सो गयी. लगभग 40 मिनट बाद जब मैंने उठ के देखा की माँ सोई या नहीं तब वो गहरी नींद में थी. मैं खुश हो गया और मन में सोचने लगा की जो मैं करने का सोच रहा था वो तो माँ ने खुद ही कर दिया. फिर मैंने पापा के रूम मे जाके चेक किया तो देखा पापा भी गहरी नींद में थे. इससे मेरी हिम्मत थोड़ी बढ़ गयी और मै सीधा माँ के पास चला गया और उनसे चिपक के सोने लगा. अब मुझे कोई डर नहीं था वो दवाई की वजह से. मैंने एक वियाग्रा की पिल भी खा ली ताकि अच्छे से उनको चोद सकू.

फिर मैंने धीरे-धीरे माँ का पल्लू नीचे किया और ब्लाउज के साथ मुँह में ले लिए उनके बूब्स. उनके बूब्स बहूंत सॉफ्ट थे. थोड़ी देर चूसने के बाद और एक को मसलने के बाद मैंने अदला-बदली की. 10-15 मिनट चूसने के बाद मैं नंगा हो गया और माँ का ब्लाउज उतार दिया और एक कैमरा लेके रिकॉर्ड करने लगा. कैमरा लगा के मैंने तो पहले रूम के सारे दरवाज़े और खिड़कियां बंद की. फिर बेड पे कूद पड़ा. उसके बाद मैंने माँ की ब्रा उतारी और दोनों हाथो से अच्छे से बूब्स को मसलने लगा. मैं बूब्स को चाटने चूसने लगा और निप्पल को भी रगड़ रहा था बीच-बीच में. फिर मैं उनको लिप किश करने लगा और पूरा मुँह चाटने लगा. उसके बाद उनके गले से हो कर नाभि तक चाटा. फिर उनके पेटीकोट और साड़ी नीचे से उठाने लगा क्यूंकि अगर उतार दिए तो अच्छे से पहना नहीं पाउँगा और उनको पता चल जायेगा. ये सब करते हूंए गांड फट रही थी. लेकिन मज़ा भी आ रहा था.

फिर मैं उनकी पैंटी तक पहुंचा और पैंटी का मिडिल पार्ट जो चूत को छुपाता है उसे सूंघने लगा. बड़ी अजीब बदबू थी लेकिन मज़ा आ रहा था. कुछ देर सूंघने के बाद चाटने लगा पैंटी के ऊपर से. पूरा गीला कर दिया पैंटी को फिर थोड़ा साइड करके डायरेक्ट चूत में मुँह लगा के चूसने लगा. मैं सरप्राइज हो गया क्यूंकि माँ की चूत पे कोई भी बाल नहीं था. लगता है 2-3 दिन पहले ही शेव की होगी. फिर मैंने चूत को चूस-चूस के पूरा गीला कर दिया और एक ऊँगली डालने लगा. अभी थोड़ा सा ही डाला था की माँ ने करवट ली. मेरी तो फट के 4 हो गयी थी. मुझे लगा अभी पकड़ा जाऊंगा. तो मैं कुछ देर के लिए रुका और फिर सब कपडे वगैरा एडजस्ट करके सोने जाने लगा.

लेकिन तब तक वियाग्रा का असर होने लगा था. तो मैं एक हाथ से माँ के बूब्स को दबाने लगा और दुसरे से हिलाने लगा. लगभग 50 मिनट के बाद मेरा पानी निकलने वाला था. मैं घूमा ही था के सारा माल जाके माँ के पेट ब्लाउज साड़ी गले और चीक्स पे पड़ा. बहुत माल निकला था तब. मुझे कुछ सूझ ही नहीं रहा था तब. 2 मिनट मैं पड़ा रहा. फिर उठ के टिश्यू पेपर लिया और माँ को साफ़ करने लगा. पहले फेस फिर नैक फिर साड़ी फिर पेट और आखिर में ब्लाउज. सब तो साफ़ नहीं हो पाए. फिर भी जितना कर सकता था किया. अभी भी मेरा मन नहीं भरा था. लंड भी खड़ा था तो हिम्मत करके उनके लिप्स तक लंड लेके गया और थोड़ा मुँह खोल के लंड अंदर डालके चोदने लगा. इस बार 20 मिनट ऐसे करने के बाद भी मुझे जोश चढ़ा हुए था तो उतर के हिलाने लगा दोनों हाथो से. फिर करीब 1 घंटे और 20 मिनट बाद मेरा माल निकला. इस बार थोड़ा कम था पहले से. फिर मैं थक के सोने लगा.

मुझे ख़याल ही नहीं रहा की माँ के ऊपर मैं माल गिराके सो गया था.जब सुबह माँ उठी तो उनके मुँह से अजीब बदबू आने लगी. कपडे भी कुछ-कुछ जगह पर चिप-चिप लगने लगे. उनको समझने मे देर ना लगी की क्या थी वो चीज़े. तो वो सोचने लगी की क्या मेरा ही बेटा ये सब किया है. उनको यकीन नहीं हो रहा था. फिर वो चली गयी. इसके बाद क्या हुआ जानिए अगले पार्ट मे…..

Read More Maa Beta Sex Stories..

Leave a Comment