ChotiGolpo मेरी पहली चुदाई मेरे सौतेले बाप ने की

ChotiGolpo Kahini Wiki

Sautele baap beti ki chudai: हाय फ्रेंड्स मेरा नाम दीप्ति है. मैं 21 साल की हॉट लड़की हूँ और दिल्ली में रहती हूँ. अभी मैं कॉलेज में ग्रेजुएशन कर रही हूँ. मेरी हाइट 5 फुट 6 इंच है और फिगर 34-28-36 है. रंग मेरा गोरा है और लड़के मुझ पर मरते है. अब मैं ज़्यादा टाइम वेस्ट ना करते हुए अपनी कहानी पर आती हूँ. 6 महीने पहले मेरी रोहित से दोस्ती हुई और एक महीने में हम दोनों बॉयफ्रेंड-गर्लफ्रेंड बन गए. मुझे रोहित बहुत पसंद था. उसकी पर्सनालिटी तगड़ी थी. रोहित मेरी ही उम्र का था और मेरी क्लास का सबसे हैंडसम लड़का था. उसकी हाइट 5 फुट 11 इंच थी और रंग गोरा था. फेस पर हलकी दाढ़ी थी जो उसको बहुत जचती थी. जिम जाके उसने बॉडी भी अच्छी बनायीं हुई थी. वो जितना हैंडसम था उतना ही नॉटी और बोल्ड भी था. उसने कई बार अपनी हरकतों से मुझे चौंकाया था. एक बार उसने मुझे बोला की वो मेरे घर आएगा. मैंने भी ऐसे ही बोल दिया की आ जाओ जबकि मुझे लगता नहीं था की वो आएगा. फिर थोड़ी देर बाद बाहर कोई सब्ज़ी लेके आया. जब मैंने देखा तो वो रोहित था जो दाढ़ी मूछ लगा कर आया था. ये देख कर मैं डर गयी क्यूंकि पापा घर पर ही थे. लेकिन उसने कुछ ऐसा-वैसा नहीं किया और मुझसे मिल कर चला गया. फिर बाद में मैं उसकी इस हरकत को सोच कर हसने लग गयी.

Sautele baap beti ki chudai kahani

एक रात फिर ऐसा ही कुछ हुआ. रोहित ने कहा कि मैं आऊँगा मिलने? मुझे लगा रात के 2 बजे कौन आएगा तो मैंने उसको आने को बोल दिया. आधे घंटे बाद रोहित मेरे घर के बाहर था. अब मैं दरवाज़ा तो खोल नहीं सकती थी तो वो पाइप पर चढ़ कर आ गया. फिर हमारी पहली बार किसिंग हुई. रोहित काफी वाइल्ड था. उसको किस करके मेरी चूत गीली हो गयी. उस रात के बाद मैं सेक्सुअली उसकी तरफ काफी एट्रेक्ट होने लगी थी. अब हम कॉलेज में अक्सर छुप-छुप कर किस किया करते थे. उसको किस करके मेरे पूरे शरीर में करंट दौड़ जाता था. जब वो किस करते हुए मेरी गांड दबाता था तब तो मेरा दिल करता था की उससे चुद ही जाऊ. मैंने सोच लिया था की मेरी सील रोहित ही तोड़ेगा.

लेकिन ऐसा नहीं हुआ और मेरी सील मेरे बाप ने तोड़ी. चलिए बताती हूँ कैसे. मेरी फॅमिली में मेरे अलावा मेरी मम्मी छोटा भाई और सौतेला बाप रहते है. मेरा छोटा भाई मेरी मम्मी और सौतेले बाप का बेटा है. मेरे रियल बाप ने किसी पैसों वाली औरत के लिए मेरी मम्मी को छोड़ दिया था. फिर मम्मी ने मेरे सौतेले बाप से शादी कर ली. पापा और मेरी कभी बनी नहीं थी. वो मुझे अजीब नज़रों से देखते थे और मुझे उनसे पापा वाली फीलिंग नहीं आती थी. इसलिए मैं उनके साथ सिर्फ काम की बात करती थी. लेकिन मुझे ये नहीं पता था की उनकी मेरी हर एक हरकत पर नज़र थी. एक दिन मुझे व्हाट्सप्प पर रोहित का मैसेज आया की वो मुझसे अकेला मिलना चाहता था और प्यार करना चाहता था. मैं ये देख कर बहुत खुश हुई और मेरी चूत में हलचल होने लगी. मैंने उसको 2 दिन बाद का टाइम दिया क्यूंकि 2 दिन बाद पापा मम्मी और छोटे भाई को लेके मम्मी के माईके जाने वाले थे. अब बस मैं इंतज़ार में थी की कब वो टाइम आएगा जब रोहित मेरी चूत की सील तोड़ेगा.

फिर वो दिन आ ही गया. सुबह 10 बजे वो तीनो निकल गए. मैंने रोहित को मैसेज किया की वो 11 बजे तक आ जाये. उसने हां बोला. फिर मैं चुदाई की तैयारी करने लगी. मैंने रूम में अच्छे से रूम फ्रेशनर स्प्रे कर दिया और बेड पर थोड़े फ्लावर्स डाल दिए. फिर मैं नहाने चली गयी और मैंने अपनी चूत भी शेव करि. मैं अपनी पहली चुदाई को यादगार बनाना चाहती थी. नहाने के बाद मैंने डेनिम शॉर्ट्स और ब्लैक टी-शर्ट पहन ली. मैंने काफी सारा डियो लगा लिया ताकि मेरे जिस्म में से खुशबु आती रहे. अब मैं रोहित की वेट कर रही थी. मैंने रोहित को मैसेज करके पुछा की वो कितनी देर में आने वाला था. उसने कहा की वो 15 मिनट में मेरे घर पहुँच जायेगा. मैं बहुत एक्ससिटेड थी. एक्ससिटेमेंट में मेरी चूत अपने आप ही गीली होने लगी थी. फिर 15 मिनट बाद बेल बजी. मैं भाग कर दरवाज़ा खोलने गयी. जब मैंने दरवाज़ा खोला तो वह कोई नहीं था.

Step father fucked step daughter hindi sex story

पहले तो मैं सोच में पड़ गयी लेकिन फिर मैंने सोचा की ज़रूर रोहित कोई शरारत कर रहा होगा. मैंने वही खड़े रह कर बोला-

मैं: रोहित सामने आ जाओ. हर टाइम शरारत नहीं करनी चाहिए. अगर मेरे 10 गिनने तक तुम नहीं आये तो मैं दरवाज़ा बंद कर दूँगी और फिर दोबारा नहीं खोलूंगी.

फिर मैंने 10 तक गिनती करि लेकिन रोहित नहीं आया. जब वो नहीं आया तो मैंने दरवाज़ा बंद कर लिया और अंदर जाने लगी. मैं जैसे ही दरवाज़ा बंद करके अंदर जाने लगी. पीछे से किसी ने मुझे पकड़ लिया. मैं अचानक ऐसा होने से डर गयी लेकिन फिर समझ गयी की वो रोहित था. फिर मैं बोली-

मैं: तुम न बहुत नॉटी हो.

ये बोल कर मैं पीछे मुड़ने लगी. लेकिन रोहित ने मुझे मुड़ने नहीं दिया. फिर उसने मेरी आँखों पर पट्टी बाँध दी और मेरी पीठ पर किस करने लगा. आँखों पर पट्टी होने की वजह से मुझे कुछ दिख नहीं रहा था. फिर रोहित ने मुझे अपनी तरफ घुमाया और मेरे होंठ अपने होंठो से मिला दिए.अब हम दोनों किस करने लगे. आज वो बड़ी हार्ड किस कर रहा था और किस करते हुए मेरे होंठ काट रहा था. मैंने उसको रोकना चाहा लेकिन उसने मुझे बोलने का मौका ही नहीं दिया. किस करने के बाद उसने मुझे बाहों में उठाया और रूम में ले गया. वहाँ जाके उसने मुझे बेड पर डाला और खुद मेरे ऊपर आ गया. वो मेरी गर्दन पर किस करने लगा और मेरी शॉर्ट्स के ऊपर से मेरी चूत मसलने लगा. मैं मदहोश हो रही थी. फिर उसने शॉर्ट्स का बटन और ज़िप खोल कर शॉर्ट्स में हाथ डाला और पैंटी के ऊपर से मेरी चूत रगड़ने लगा. मेरी चूत गीली थी और मुझे बड़ा मज़ा आ रहा था. उत्तेजित होके मैंने रोहित को बोला-

मैं: रोहित मेरी चूत बहुत गरम होने लग गयी है. आज इसकी प्यास बुझा दो.

तभी रोहित बोला: आज तुम्हारी चूत की सारी गर्मी निकाल दूंगा बेटी.

मैं: बेटी!

रोहित ने मुझे बेटी क्यों कहा और ये आवाज़ भी रोहित की नहीं थी. ये कौन था जो मेरे ऊपर था लेकिन मैंने उसको देखा तक नहीं था. उसके बेटी बुलाने से मैं हैरान हो गयी. जब रोहित ने मुझे बेटी बुलाया तो मैं समझ गयी की वो रोहित नहीं था. उसी वक़्त मैं अपनी पट्टी खोलने लगी लेकिन उस शख्स ने मेरा हाथ पकड़ लिया. उसने मेरे दोनों हाथ बेड पर लगा लिए और मेरे लिप्स से अपने लिप्स जोड़ दिए. वो मेरे ऊपर था तो मैं हिल भी नहीं पा रही थी. मुझे किस में मज़ा ज़रूर आ रहा था लेकिन टेंशन भी हो रही थी. तभी उस शख्स ने अपना एक हाथ नीचे करके मेरी शॉर्ट्स और पैंटी नीचे की और मेरी चूत में फिंगरिंग करने लगा. उसने अपने दुसरे हाथ से मेरे दोनों हाथ पकड़ कर ऊपर कर दिए और मेरे होंठो को रिलीज़ नहीं किया. चूत मसलते-मसलते उसने अपना लंड बाहर निकाला और मेरी चूत पर रगड़ने लगा. मैं झटपटाने लगी और परेशान हो रही थी की वो कौन था.

तभी उसने एक ज़ोर का झटका मेरी चूत में मारा और उसका आधा लंड मेरी चूत में चला गया. मेरी ज़ोर की चीख निकली और उसकी भी अहह निकल गयी क्यूंकि मेरी चूत सील बंद चूत थी. मेरी चीख तो किस की वजह से डब्ब गयी. लेकिन उसकी अहह मुझे सुनाई पड़ गयी. अभी मैं पहले झटके का दर्द झेल ही रही थी की उसने दूसरा झटका मार कर अपना पूरा लंड अंदर कर दिया. मेरी दर्द से गांड फट गयी और मेरी आँखों से आंसू आ गए. मुझे ऐसा लग रहा था जैसे किसी ने लोहे ही रोड मेरे अंदर घुसा दी हो .फिर उसने अपने दोनों हाथो से मेरे दोनों हाथ पकड़ लिए और लंड धीरे-धीरे अंदर बाहर करता गया. इस सब के दौरान वो लगातार मेरे होंठ चूसता गया. धीरे-धीरे मेरी चूत बहुत गीली हो गयी और मुझे मज़ा आने लगा. वो धीरे-धीरे स्पीड बढ़ाने लगा और मैं भी मज़े से उम् उम् करने लगी. शायद वो समझ गया था की अब मेरी सिसकियाँ दर्द भरी नहीं थी बल्कि मज़े वाली थी तो उसने मेरे होंठो को छोड़ दिए.

Sauteli beti ko baap ne pela

अब मुझे इतना मज़ा आ रहा था की मेरा इंटरेस्ट ही नहीं रहा ये जानने का की वो आदमी कौन था जो मुझे चोद रहा था. फिर उसने अपनी स्पीड और तेज़ की और मेरी गर्दन पर किस करते हुए मेरी चूत चोदने लगा. मैं अहह अहह करके उसकी चुदाई का मज़ा ले रही थी. कुछ देर ऐसे ही चोदने के बाद उसने मेरे हाथ भी रिलीज़ कर दिए. फिर उसने अपने दोनों हाथो से मेरी टॉप मेरे बूब्स से ऊपर की और पीछे हाथ ले जाके ब्रा का हूँक खोल कर ब्रा भी निकाल दी. अब वो मुझे चोदते हुए मेरे बूब्स चूसने लगा. इससे मेरी उत्तेजना और बढ़ गयी और मैं कामुकता भरी आवाज़े निकालने लगी. मैं अहह अहह करती जा रही थी और वो पूरा ज़ोर लगा कर फुल स्पीड में मुझे चोदे जा रहा था. बड़ा मज़ा आ रहा था. कुछ देर में मेरा पानी निकल गया और मैं ठंडी पड़ गयी. लेकिन वो मेरी चूत चोदे जा रहा था. बूब्स भी चुसवा-चुसवा कर दर्द करने लगे थे तो मैंने उसको कहा-

मैं: बस करो अह्ह्ह. थोड़ा रुक जाओ दर्द हो रहा है मुझे.

ये सुन कर उसने मेरे बूब्स को तो छोड़ दिया लेकिन चूत चोदना नहीं छोड़ा. अगले 5 मिनट में उसके धक्को की वजह से मेरी चूत में फिरसे गर्मी आ गयी और मुझे उसका लंड अंदर-बाहर होने से मज़ा आने लगा. उसने भी ये भांप लिया और अपना लंड मेरी चूत से निकाल लिया. जैसे ही उसने लंड चूत से निकला मैंने उसको कहा-

मैं: क्या हो गया? बाहर क्यों निकाल लिया.

वो बोला कुछ नहीं लेकिन मेरी साइड में आके मुझे धक्का देने लगा. मैं समझ गयी की वो मुझे उलटी करना चाहता था तो मैं घूम कर पेट के बल हो गयी. मेरी टॉप मेरी पीठ पर चढ़ी हुई थी. उसने टॉप को पकड़ा और ऊपर करके उसको निकाल दिया. अब मैं उसके सामने पूरी नंगी थी. फिर वो मेरे ऊपर आया और मेरी जाँघों पर अपनी गांड रख कर बैठ गया. उसके बाद वो आगे झुका और मेरी पीठ पर किस करने लगा. मुझे मज़ा आ रहा था. उसका लंड पीछे से मेरी गांड पर टच हो रहा था. पीठ चूमते हुए वो अपना एक हाथ मेरी चूत पर आगे ले गया और मसलने लगा. फिर उसने मेरी टाँगे थोड़ी खोली और टांगो के बीच लंड डाल दिया. उसके बाद अपने हाथ से जो आगे चूत पर था अपने लंड को चूत के मुँह पर सेट किया और लंड अंदर घुसेड़ दिया.

Sautele baap beti ki chudai story hindi

मुझे फिरसे बहुत दर्द हुआ. शायद ऐसे चूत टाइट हो जाती है इसलिए. फिर वो अपना लंड अंदर-बाहर करने लगा. उसका लंड मेरी चूत से रगड़ खा कर अंदर-बाहर हो रहा था. मुझे दर्द और मज़ा दोनों मिल रहे थे. पता ही नहीं चल रहा था की मज़ा ज़्यादा था या दर्द. धीरे-धीरे उसके धक्के बड़े ज़ोर के हो गए. इतने ज़ोर के की बेड में से चर्र-चर्र की आवाज़ आने लगी. कुछ देर ऐसे ही चोदने के बाद मुझे अपनी चूत में गरम-गरम चीज़ आती महसूस हुई. मैं समझ गयी ये उसका स्पर्म होगा. मुझे टेंशन हुई की कही मैं प्रेग्नेंट न हो जाऊ. लेकिन इतना मज़ेदार एहसास था उसको अपने अंदर लेने का की मैंने उसको रोका नहीं और अंदर जाने दिया. फिर वो मेरे ऊपर से हटा और साइड में आ गया. मैं भी सीधी होक लेट गयी.

हम दोनों हांफ रहे थे. तभी उसने अपने हाथ से मेरी आँखों की पट्टी खोल दी. मैंने देखा और मेरी गांड फट गयी. ये तो मेरा सौतेला बाप था. इसके आगे की कहानी आपको अगले पार्ट में पता चलेगी. अगर आपको कहानी अच्छी लगी हो तो इसको अपने फ्रेंड्स के साथ ज़रूर शेयर करे.

Read More Sex Stories –

Leave a Comment