Maama Ki Jawan Saali Ki Chudai

ChotiGolpo Bangla kahini

Sexy Ladki Ki Sex Kahani मेरे मामके घर में शादी थी तो वहां मैं पहले चला गया. मामा की साली भी वहां आई हुई थी. एक रात मैं सोया हुआ था कि वह मेरे गाल पर चूम कर चली गयी.

प्रिय पाठको, नमस्ते!
मेरा नाम विक्की है, और मेरी ऊंचाई 5 फुट 6 इंच है।
मैं एक छोटे से उत्तर प्रदेश के जिले में रहता हूँ।

यह हॉट लड़की फ्री सेक्स स्टोरी उस समय की है जब मैं 12वीं क्लास की परीक्षा देकर उस के परिणाम का इंतजार कर रहा था.

उसी समय मेरे मामा के घर पर एक शादी हो रही थी और मैं उस शादी में गया हुआ था.

उसी समय, मेरे मामा के घर पर एक शादी थी, और मैं उस शादी में शामिल था.

वहीं पहुँचकर मुझे पता चला कि मेरे मामा की साली शालू नामक व्यक्ति भी मौजूद थी, जिसे मैं बहुत दिनों से नहीं देखा था।
वह मेरी से कुछ साल बड़ी थी।
मैं उसके साथ आपसी संबंधों को “मौसी” कहकर जानता था और मैं उसका सम्मान करता था।

लेकिन हुआ कुछ ऐसे कि शादी के 2 रात पहले हम सभी लोग छत पर लेटे थे.
तभी तेज आंधी चलने लगी और बारिश भी शुरू हो गई।

बारिश के कारण से सभी लोग नीचे आ कर सोने का इंतजाम करने लगे और मेहमान ज्यादा होने के कारण पहले से भी कुछ लोग नीचे सो रहे थे तो मैं औरतों से थोड़ा दूर जाकर एक जगह बरामदे में सोने के लिए बिस्तर बिछा कर लेट गया.
मेरे साथ कुछ अन्य छोटे छोटे बच्चे भी थे.

तभी जगह न मिलने के कारण शालू भी मेरे पास ही आकर लेट गई लेकिन उसके और मेरे बीच में थोड़ी सी दूरी थी।

मैं आँख बंद कर के चुपचाप लेटा रहा क्योंकि मुझे नींद नहीं आ रही थी.

इतने में शालू धीरे से उठी और इधर उधर देख कर मुझे धीरे एक बार चूम कर फिर से लेट गई.

मैं एकदम से अचम्भित रहा गया क्योंकि मुझे इसका ज़रा सा भी अंदाज़ा नहीं था कि ऐसा कुछ होगा या हो सकता है।

तो मैं कुछ देर उसी अवस्था में लेटा रह गया.
मुझे तो इस सुखद घटना पर यकीन नहीं हो रहा था।

तभी शालू ने फिर से ठीक वैसे ही मुझे चूमा.
और मैं फिर चुपचाप लेटा रह गया.

मेरे हाथ पांव थोड़ा कांपने लगे क्योंकि पहले कभी किसी लड़की के साथ मैंने ऐसा कुछ नहीं किया था.

लेकिन मैंने सोचा कि अगर अब ऐसा कुछ होगा तो मैं भी कुछ करूँगा.

और अब की बार जब शालू ने मुझे चूमने की कोशिश की तो मैंने उसे पकड़ लिया और उसके होठों पर अपने होठों रख कर उस को चूमने लगा.

पहले तो शालू एकदम से घबरा गई.
लेकिन फिर उसने भी मेरा साथ देना शुरू किया और हम एक दूसरे को पागलों की तरह चूमने लगे.
हम दोनों के जिस्म धीरे धीरे गर्म होने लगे और शालू आहें भरने लगी.

तभी मैंने उसके बड़े बड़े और बहुत ही रसीले चूचों पर हाथ रखकर उनको दबाने लगा.

अब तो शालू एकदम से अपने आपे से बाहर चली गई.
जैसे लग रहा था कि वह इसी चीज़ का कितने अरसे से इंतजार कर रही थी.

मैंने अब उसका ऊपर का वस्त्र यानि कमीज निकाल दिया और मैं उसकी ब्रा के ऊपर से ही उसकी चूचियों को दबा रहा था और उसको चूम रहा था.

इतने में शालू मेरी पैंट में हाथ डाल कर मेरे लंड को सहलाने लगी.
तब तक मेरा लंड भी शालू की नई नई जवानी को सलामी देने को तैयार और साथ ही साथ बेताब था।

हम दोनों एक दूसरे को पागलों की तरह एक दूसरे में डूब जाना चाहते थे.

अब मैंने शालू की ब्रा को खोल दिया और अब शालू की बड़ी बड़ी चूचियां मेरे सामने थी.

पहले मैंने उनको अच्छे से निहारा.

शालू ने मुझे अपने चूचियों को देखता देख कर पूछा- क्या हुआ? अच्छे नहीं लगे क्या ये तुम्हें?

लेकिन मैं इसका कोई जवाब न देते हुए उन पर टूट पड़ा और एक एक कर के चूचियों को पीने लगा और उनको एक एक कर के अपने मुँह में भरने लगा.

शालू को थोड़ा दर्द हुआ लेकिन वह मेरा साथ देते हुए मेरे कान में बोली- खा जाओ इनको … मैं इनसे बहुत परेशान हूँ. ये इतने बड़े हैं.

सच में शालू बहुत ही कामुक और सुंदर शरीर की मालकिन थी।

इस के बाद मैं बहुत देर तक शालू की चूचियों से खेला और खूब चूसा उनको!

लेकिन जैसे ही मैंने शालू की चूत की तरफ हाथ बढ़ाया, शालू ने मेरा हाथ पकड़ लिया।

मैं फिर भी नहीं माना और उसकी सलवार में हाथ डाल कर उसकी चूत को छुआ.
वह मेरा पहली बार था कि मैंने किसी स्त्री की योनि का स्पर्श किया हो।

शालू की चूत पर एक भी बाल नहीं था.
और उस चूत से पानी बह रहा था।

जैसे ही मैंने उसकी चूत पर अपने हाथों से छुआ, वह सिहर उठी और मुझे जोर से जकड़ लिया.

कुछ देर बाद मैंने अपने लंड को शालू की हाथ में रख कर उस को सहलाने को बोला.
तो शालू ने मेरा लंड अपने मुँह में रख कर अपनी चूत मेरी तरफ कर उसको चाटने को बोली.

लेकिन वह ऐसा न करने की मेरी इच्छा को देख कर बोली- ठीक है, तुम अपने हाथों से ही इस में उंगली करो या तो सहलाओ!

मैंने दोनों करना शुरू किया और शालू तो मेरे लंड को एक लॉलीपॉप के तरह चूसने लगी.
और तब मुझे लगा कि शालू एक मंझी हुई खिलाड़िन है।

शालू ने मेरा लंड इतना चूसा कि मैंने एक बार उसके मुँह में ही पानी छोड़ दिया.
और शालू की भी चूत से थोड़ा सा पानी बह कर निकल गया.

हम दोनों इस के साथ ही एकदम शांत हो गये।

कुछ देर हम वैसे ही लेटे रहे.
लेकिन जब बगल में इतना जवान और जोशीला, कामुक शरीर हो तो फिर कहाँ नींद आने वाली थी.
अभी तो शेर ने खून का स्वाद चख लिया था।

अब हम कितनी देर शांत रह सकते थे, हमने एक फिर से एक दूसरे को चूमना शुरू किया.

शालू फिर से गर्म हो गई और सिसकारियाँ भरने लगी.
फिर से एक बार उसकी चूत के नहर में पानी का बहाव तेज़ होने लगा.
उसकी चूचियों की भुंडी खड़ी होने लगी जैसे लग रहा था कि शालू को बहुत दिनों से चरमसुख की प्राप्ति नहीं हुई है.

मैं शालू कीके जिस्म की गरमी को अपने हाथ और होंठों से बढ़ा रहा था.
क्योंकि मैं चाहता था कि या तो शालू मुझे चोदने के लिए बोले या खुद मेरा लंड पकड़ कर अपनी चूत पर रखे.

और कुछ ही देर में शालू ने मेरा लंड पकड़ कर अपनी चूत के छेद पर रख दिया और रखते हुए बोली- मेरी चूत बहुत ही किस्मत वाले लंड को मिलती है. और यह तुम्हारा दूसरा लंड है जो मेरी चूत की गहराई में जाने के लिए अपने चूत के दर पर मैंने रखा है. तो देर न करके मेरी चूत का तेल निकाल दो।

इतना सुनते ही मेरे लंड में एक बिजली दौड़ गई और मैंने एक झटके में शालू की चूत में अपने धारदार लंड को उतार दिया.
शालू मानो एकदम से चिल्ला उठी और उसकी आंखों में एक चमक आ गई.

और फिर मैंने उसकी चूत में अपने लंड को पेलना शुरू किया.

शालू भी चुदाई का आनंद ले रही थी और मुझे कस के जकड़ रही थी मानो वह दोनों शरीर को एक कर देना चाहती हो!

मैंने धीरे धीरे चुदाई की रफ्तार को बढ़ा दिया.

अब शालू की आहें भी तेज हो गई.

कुछ देर ऐसे ही चुदाई करने के बाद शालू ने मुझे थोड़ा रुकने को कहा.
मैं जैसे ही रुका, शालू उठ कर बैठ गई और मुझे लेटा दिया.

और अब वह मेरे ऊपर सवार हो कर मेरा लंड अपने गोरी चिकनी चूत में ले कर झटके लेने लगी.
हम दोनों को बहुत ही मज़ा आ रहा था.

मैं शालू को अपने ऊपर बैठ कर चुदवाती हुई देख कर सोच रहा था कि क्या किस्मत है मेरी … हॉट लड़की … फ्री सेक्स … अचानक से मुझे चूत मिली … और वो भी इतनी कामुक और सुंदर लड़की की!

शालू की चूचियां मेरे सामने मेरी आँखों के सामने लटक रही थी.
मैं भी बढ़ कर उन को पीने लगा और एक को दबाने लगा।

कुछ देर बाद शालू थक गई तो मैंने भी शालू को अपनी चूत को सिर्फ थोड़ा सा ऊपर रखने को बोला.
और फिर मैंने नीचे से लेट कर उसकी चूत में धक्के देना शुरू किया.

अब तो शालू एकदम से जोर जोर से चिल्लाने लगी, आहें भरने लगी.
जैसे लग रहा था कि अब हॉट लड़की को चरमसुख की प्राप्ति होने वाली है.

और साथ ही अब मेरा भी पानी निकलने वाला था.

जैसे ही शालू की आहें बढ़ी, मैंने चुदाई तेज़ कर दी और हम दोनों ने एक साथ पानी छोड़ते हुए एकदम से गिर पड़े और कुछ देर शांति के साथ लेटे रहे।

कुछ देर बाद हम दोनों ने एक दूसरे को खूब चूमा.
और फिर हम लोग साथ में एक दूसरे से चिपक कर सो गए।

The post Maama Ki Jawan Saali Ki Chudai appeared first on Sex Kahani & Antarvasna Story.

Leave a Comment